कोरोना पर चीन की पोल खोली इस चीनी डॉक्टर ने

डॉक्टरों में से एक आई-फेन जिन्होंने कोविद 19 कोरोना वायरस की खोज की, ने चीन की सरकारी मशीनरी के बारे में एक बड़ा खुलासा किया है। सबसे खतरनाक कोरोना वायरस के संक्रमण के बारे में सबसे ज्यादा जो गफ़लत हुई वो अब सामने आई है।

यह अब सामने आने लगा है कि कोरोना वायरस चीन के वुहान से फैला था। उस समय, चीनी डॉक्टरों ने यह भी पता लगाया था कि वायरस घातक और खतरनाक था और बहुत जल्दी फैल जाएगा, लेकिन चीनी सरकार और चीनी अधिकारियों ने डॉक्टरों को कुछ भी बताने से इनकार कर दिया।

> सावन पर पढ़े कोरोन पर कवितायें

वुहान में, जिस डॉक्टर ने पहली बार वायरस के बारे में बात की थी, वह मर गया, और चौंकाने वाली बात यह है कि वायरस के फैलने के बाद से कई लोगों के लापता होने की खबर आई है। कोविद 19 कोरोना वायरस की खोज करने वाले डॉक्टरों में से एक ने चीन की सरकार की प्रणाली के बारे में कमैंट किया था।

वुहान की डॉक्टर आई फेन ने कहा, मेरे कई सहयोगियों ने बीमारी से पीड़ित लोगों का इलाज करते हुए दम तोड़ दिया है, लेकिन जब हमने दिसंबर में वायरस के बारे में वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों को बताया, तो हमें चुप रहने के लिए कहा गया। डॉ आई फेन ने चीनी पत्रिका रेनवू के साथ एक साक्षात्कार में ये सभी बातें कही।

डॉ फेन वुहान केंद्रीय अस्पताल में आपातकालीन विभाग की निदेशक हैं। डॉ फेन ने कहा कि उन्हें धमकी दी गई थी कि अगर आप इस वायरस के बारे में किसी से बात करेंगी तो नतीजे बहुत बुरे होंगे। रिपोर्ट के अनुसार, सोशल मीडिया में मामला उठाने वाले डॉक्टर अभी भी जेल में हैं।

> अपने बच्चों के घर में इंगेज रखने के लिये ट्राई करे ये आर्ट एंड क्राफ़्ट्स with K4 Craft

साक्षात्कार में, डॉ फेन ने कहा कि अगर मुझे पता होता कि यह वायरस इतने लोगों को मार सकता है तो मैं चुप नहीं रहती। मैं यह बात दुनिया भर में सभी को बताऊंगी। मैं इस जानकारी को किसी भी तरह से आवश्यक रूप से सभी को बताउंगी। फिर चाहे कोई मुझे जेल में डाल दे। यह इंटरव्यू पूरी दुनिया में वायरल हो रहा है। फिर, चीनी सरकार के दबाव में, रेनवू ने अपनी वेबसाइट से इस साक्षात्कार को हटा दिया। डॉ फेन का साक्षात्कार चीन के सोशल मीडिया साइटों से भी गायब हो गया, लेकिन कुछ लोगों ने इसका स्क्रीनशॉट लिया। अब, डॉ फेन का साक्षात्कार इमोजी और मोर्स कोड में परिवर्तित करके सोशल मीडिया में वायरल है।

डॉ फेन के अनुसार, 30 दिसंबर को लैब ने वायरस को SARS कोरोना वायरस के समान पाया। डॉ फेन ने रिपोर्ट का फोटो लिया और अपने वरिष्ठ अधिकारियों और सरकारी अधिकारियों को भेज दिया। शाम को, यह तस्वीर वुहान के सभी डॉक्टरों तक पहुंच गई। डॉ ली वेनलियानग ने इसे सोशल मीडिया में रखा और दुनिया को बताया कि नया कोरोना वायरस फैल रहा है। रात में अस्पताल प्रबंधन का मैसेज आया कि डॉक्टर फेन आप इस बीमारी के बारे में किसी को नहीं बताएंगी। दो दिन बाद उन्हें धमकी दी गई।

कोरोना से कैसे निपटे? दें भारत सरकार को सलाह

Download Education Games for Kids

unshaven girl


Posted

in

by

Tags:

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *