जब मनोज कुमार ने ड्रीम गर्ल को सिखाया सबक

हम अक्सर अपनी ज़िन्दगी में अनेक लोगों से मिलते हैं। उनके साथ हम काम करते हैं, समय व्यतीत करते हैं, घूमते हैं, और अपनी बहुत सारी बातें भी उनसे साझा करते हैं। उनमें से कुछ लोगों के साथ इस कदर लगाव हो जाता है, कि हम उन्हें अपनी ज़ुबान भी दे देते हैं। ये भरोसा दिलाते हैं कि हम उन्हें कभी शिकायत का मौका नहीं देंगे। कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जिन्हें हम अपना आदर्श मानकर उनका आदर करते हैं, और सोचते हैं कि ये इंसान कभी अपनी जुबान से पीछे नहीं हट सकता। वो लोग हमारे परिवार से, खेल जगत, राजनीति या फिर फिल्म जगत, कहीं से भी हो सकते हैं। आज हम एक ऐसी ही शख्सियत के बारे में बात करेंगे, जो आज भी करोड़ों दिलों पर राज करती हैं। लेकिन एक समय ऐसा भी आया था जब वह भी अपनी ज़ुबान से मुकर गई थी।

जब हेमा मालिनी करती थी मनमानी

अस्सी और नब्बे के दशक में ‘ड्रीम गर्ल’ के नाम से मशहूर अदाकारा हेमा मालिनी का भारतीय दर्शकों के दिलों पर राज था। लोग उनके दीवाने इस कदर थे कि उनकी फिल्में देखने के लिए वह सिनेमाघरों तक खिंचे चले आते थे। हम अक्सर सुनते हैं कि सफलता और प्रसिद्धि हासिल करने के बाद कलाकार अक्सर अपनी मनमानी करने लगते हैं। कुछ ऐसी ही मनमानी ‘ड्रीम गर्ल’ भी करती थी। कुछ ऐसी ही मनमानी उन्होंने तब की थी, जब साल 1981 में आई सुप्रसिद्ध फिल्म ‘क्रांति’ बनाई जा रही थी।

हम अक्सर सुनते है कि अभिनेता और अभिनेत्रियां एक साथ कई फिल्मों में काम करते हैं। दिन की शुरुआत वो पहली फिल्म के साथ करते है, तो उनकी शाम ढलती है किसी दूसरी फिल्म के साथ। भारतीय फिल्म जगत में यह परंपरा आज से नहीं, बल्कि पुराने समय से ही चली आ रही है। उन दिनों हेमा मालिनी भी यही कर रही थी। वो एक साथ फिल्म ‘क्रांति’ और ‘रजिया सुल्तान’, दोनों में काम कर रही थी। फ़िल्म बनाई जाने वाली जगह पर अक्सर अपनी मनमानी करती थी, और देर से भी पहुंचती थी।

निर्माता और निर्देशक चाह कर भी उनको कुछ कह नहीं पाते थे, क्योंकि वो एक जानी मानी अभिनेत्री थी। उनको शायद यह भी लगता था कि उनकी फिल्म ‘रजिया सुल्तान’ फिल्म ‘क्रांति’ से ज्यादा सफल होगी। इसलिए शायद यह भी कारण था, कि वो फिल्म ‘क्रांति’ पर ज्यादा ध्यान नहीं दे रही थी। लेकिन ऐसा हुआ नहीं। जब फिल्म ‘क्रांति’ भारतीय सिनेमाघरों में आई तो दर्शकों का हुजूम उमड़ पड़ा। यह फिल्म दर्शकों को बहुत पसंद अाई और सुपरहिट साबित हुई। इस फिल्म में हेमा मालिनी, मनोज कुमार, दिलीप कुमार और शशि कपूर जैसे दिग्गज कलाकारों ने काम किया था।

जब मनोज कुमार ने हेमा को सबक सिखाने की ठानी

फिल्म आने से पहले अपनी मनमानी से निर्माताओं और निर्देशकों को परेशान करने वाली हेमा मालिनी ने कभी यह नहीं सोचा होगा कि उनके ही साथी कलाकार में कोई ऐसा भी होगा जो उनको सबक सिखाएगा। अभिनेता मनोज कुमार, ये किसी परिचय के मोहताज नहीं है। इनकी फिल्मों के आज भी कई लोग दीवाने है। हेमा मालिनी के साथ भी इन्होंने क्रांति, सन्यासी और दस नंबरी जैसी फिल्मों में काम किया है। एक दिन हुआ यूं कि मनोज कुमार ने उन्हें सबक सिखाने का फैसला किया।

एक दिन जब हेमा मालिनी क्रांति ‘फिल्म’ के सेट पर पहुंची, तो उन्होंने कहा कि मेरा शॉट जल्दी से ले लिया जाए, क्योंकि मुझे दूसरी जगह भी जाना है। ऐसा सुनकर मनोज कुमार ने उनसे कहा कि ठीक है, आप दो मिनट इंतजार कीजिए, उसके बाद हम आपका शॉट लेते हैं। दो मिनट से दस मिनट हुए, और फिर एक घंटा। लेकिन मनोज कुमार नहीं आए। उस दिन उन्होंने पूरी शूटिंग दूसरे कलाकारों के साथ की और हेमा मालिनी से इंतजार करवाया। शाम को वह हेमा मालिनी के पास गए और कहा कि अब वह घर जा सकती है।

‘ड्रीम गर्ल’ को मनोज कुमार का यह रवैया बिल्कुल पसंद नहीं आया और वहां से गुस्से में चली गई। उस दिन वह फिल्म ‘रजिया सुल्तान’ के सेट पर नहीं गई। अगले दिन जब ‘रजिया सुल्तान’ के निर्माता कमाल अमरोही ने उनसे पूछा कि वह फिल्म के सेट पर क्यों नहीं आई थी तब ड्रीम गर्ल ने उन्हें पूरी बात बताई। इसके तुरंत बाद अमरोही ने मनोज कुमार को फोन किया और पूछा कि उन्होंने हेमा मालिनी से पूरे दिन इंतजार क्यों करवाया? उसके बाद मनोज कुमार ने ऐसा जवाब दिया कि उनकी बोलती बंद हो गई। मनोज कुमार ने कहा कि जब हेमा मालिनी ने फिल्म ‘क्रांति’ के लिए ज़ुबान दिया है, और कहा है कि वो अपना पूरा ध्यान इसी फिल्म पर देंगी, तो उसी समय में वह दूसरी फिल्म क्यों कर रही हैं? या तो वह फिल्म ‘क्रांति’ करें या फिर ‘रजिया सुल्तान’। ऐसा करके वह किसी भी फिल्मको गंभीरता के साथ नहीं ले पा रही हैं। वो अपनी ज़ुबान से मुकर रही हैं।

उस दौर में हेमा मालिनी एक चर्चित अदाकारा थी। कोई भी निर्माता, निर्देशक और कलाकार उनसे बैर मोल लेना नहीं चाहता था, लेकिन मनोज कुमार ने उनको सबक सिखाने के लिए एक कदम उठाना जरूरी समझा।

भारतीय फिल्म जगत में ऐसी अनेक कहानियां हैं, जिन्हें हम नहीं जानते। तो ऐसी ही रोचक कहानियों और किस्सों को जानने के लिए बने रहे हमारे साथ। अगर ये कहानी पसंद आई, तो इसे और भी लोगों तक पहुंचाए। साथ ही टिप्पणी करके यह जरूर बताएं कि क्या आपने कभी किसी को सबक सिखाया है? और अगर सिखाया है तो किस तरह? hairy girls


Posted

in

by

Tags:

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *