what-the-story-of-navneet-rana

नवनीत राणाः पंजाबी कुड़ी से फिल्मी पर्दे तक, सांसद बनने से लेकर सलाखों तक… जानें सब कुछ

 आखिर कौन है नवनीत राणा?:

नवनीत राणा अमरावती से सांसद हैं और उनके  पति रवि राणा जो एक निर्दलीय विधायक हैं.दोनों एक बार फिर चर्चा का विषय बने हुए हैं खासकर रवि राणा की पत्नी नवनीत राणा.नवनीत राणा का नाम नवनीत कौर था. शादी के बाद उन्होंने अपना सर नेम बदलकर राणा रखा.वह पंजाबी परिवार से हैं. उनका जन्म मुंबई में हुआ था.उनके पिता एक आर्मी ऑफिसर थे.

पिछले कुछ दिनों से नवनीत राणा हनुमान चालीसा को लेकर चर्चा का विषय बनी हुई है.उन्होंने यह ऐलान किया था कि वह व उनके पति रवि राणा दोनों महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के मुख्यमंत्री आवास मोतीश्री के सामने हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे.यह ऐलान सुनकर शिवसेना के पक्षधर ने उनके घर का घेराव कर लिया. पुलिस भी हरकत में आई और तुरंत नवनीत राणा और उनके पति रवि राणा को देशद्रोह के मामले में गिरफ्तार कर लिया.कोर्ट ने दोनों को 6 मई तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है.

करियर की शुरुआत

नवनीत राणा का जन्म 3 जनवरी 1986 में मुंबई में हुआ. वह मुंबई में ही पली-बढ़ी. उनकी शिक्षा भी वही पूरी हुई. उन्होंने अपनी पढ़ाई  कार्तिका हाई स्कूल से पूरी की. पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने मॉडलिंग में अपना करियर बनाने का विचार किया और मॉडलिंग की दुनिया में अपने कैरियर की ओर अपना पहला कदम बढ़ाया. मॉडलिंग के साथ उन्होंने लगभग 6 म्यूजिक वीडियोस में काम किया.वह तेलुगु,मलयालम और कन्नड़ की कई फिल्मों में काम कर चुकी हैं और इन्हीं फिल्मों से उन्होंने फिल्मी दुनिया में नेम व फेम कमाया.

उनकी पहली फिल्म कन्नड़ भाषा में “दर्शन”थी जिससे उन्होंने अपना डेब्यू किया था.उन्होंने तेलुगु की भी कई फिल्मों में काम किया जैसे जगपति,गुडबॉय,भूमा और लव,चेतना, बसंती,लक्ष्मी आदि. इसके बाद उन्होंने पंजाबी फिल्मों में भी काम किया.

 शादी के सात फेरे

नवनीत कौर का विवाह रवि राणा से 3 फरवरी 2011 में हुआ दोनों ने शादी मे ज्यादा खर्च नहीं किया बल्कि एक सामूहिक विवाह समारोह में लगभग 3200 जोड़ों के साथ शादी रचाई. विवाह समारोह में आमंत्रित बाबा रामदेव ने भी उन्हें आशीर्वाद दिया.सोर्सेज के अनुसार बताया जाता है कि नवनीत कौर की पहली मुलाकात रवि राणा से स्वामी रामदेव के आश्रम में ही हुई थी. उनका एक खुशहाल परिवार है जिनमें एक बेटा व बेटी भी शामिल है.

 रवि राणा अमरावती के मूल निवासी हैं उन्होंने एक युवा स्वाभिमान नाम की पार्टी की स्थापना की है. वह महाराष्ट्र में स्थित बडनेरा से तीन बार निर्दलीय विधायक हैं. उन्होंने 2009, 2014 और 2019 में तीनों बार बहुमत के साथ विधानसभा चुनाव जीता था.रवि राणा का संबंध महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ काफी अच्छे माने जाते है.

चुनावी करियर

नवनीत राणा ने फिल्मों में हाथ आजमाने के बाद राजनीति में अपना कदम रखा और 2017 में उन्होंने अपना पहला चुनाव एनसीपी से टिकट लेकर अमरावती से लोकसभा चुनाव लड़ा लेकिन वह जीत हासिल ना कर सकी. 2019 में एक बार फिर उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ा और शिवसेना के नामी नेता आनंद अडसुल को लोकसभा चुनाव में मात दी. नवनीत राणा व उनके पति रवि राणा सामाजिक कार्यों में काफी सक्रिय रहते हैं. सामाजिक कार्यों के साथ-साथ वह धार्मिक कार्यक्रमों मैं भी अपनी हिस्सेदारी निभाते हैं चाहे वह गणेश पूजा हो या दुर्गा पूजा. वह समाज सेवा करना अत्यधिक पसंद करते हैं और विकास कार्यों में भी शामिल होते हैं.

नवनीत राणा राजनीति में अपना काफी नाम कमा चुकी है.वह कई केंद्रीय समितियों की सदस्य भी रह चुकी हैं.वह 2019 से 2020 तक कृषि संबंधित स्थाई समिति की भी सदस्य रह चुकी हैं इसके अलावा विदेशी मामलों की स्थाई समिति, वित्त मंत्रालय और कॉर्पोरेट मंत्रालय की सलाहकार समिति की भी सदस्य रह चुकी हैं.

जाति विवाद

नवनीत राणा पर जाति को लेकर कई आरोप लग चुके हैं शिवसेना के मंत्री जिन्हे 2019 में नवनीत राणा से अमरावती लोकसभा चुनाव में मात खाई थी. वह आनंद अडसुल आरोप लगाते हैं कि नवनीत ने फर्जी जाति प्रमाण पत्र बनवा कर चुनाव लड़ा. मामला मुंबई हाई कोर्ट में चला और 2021 में नवनीत का जाति प्रमाण पत्र खारिज किया साथ ही दो लाख जुर्माना भी लगाया बाद में सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाई.


by

Tags: