आयुर्वेद का परिचय

5000 साल से भी अधिक पहले भारत में जन्म लेने वाला, आयुर्वेद (आयुः + वेद = आयुर्वेद) विश्व की प्राचीनतम चिकित्सा प्रणालियों में से एक है। यह ऋग्वेद का उपवेद है। यह विज्ञान, कला और दर्शन का मिश्रण है। ‘आयुर्वेद’ नाम का अर्थ है, ‘जीवन का ज्ञान’ और यही संक्षेप में आयुर्वेद का सार है।

“आयुर्वेद” शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है – “आयुष” और “वेद”। हिताहितं सुखं दुःखमायुस्तस्य हिताहितम्। मानं च तच्च यत्रोक्तमायुर्वेदः स उच्यते॥ -(चरक संहिता १/४०)

(अर्थात जिस ग्रंथ में – हित आयु (जीवन के अनुकूल), अहित आयु (जीवन के प्रतिकूल), सुख आयु (स्वस्थ जीवन), एवं दुःख आयु (रोग अवस्था) – इनका वर्णन हो उसे आयुर्वेद कहते हैं।)

आयुर्वेद और आयुर्विज्ञान दोनों ही चिकित्साशास्त्र हैं परन्तु व्यवहार में चिकित्साशास्त्र के प्राचीन भारतीय ढंग को आयुर्वेद कहते हैं और ऐलोपैथिक प्रणाली (जनता की भाषा में “डाक्टरी’) को आयुर्विज्ञान का नाम दिया जाता है।

आयुर्वेद की परिभाषा एवं व्याख्या

 आयुर्वेद विश्व में विद्यमान वह साहित्य है, जिसके अध्ययन पश्चात हम अपने ही जीवन शैली का विश्लेषण कर सकते है। 

(1) आयुर्वेदयति बोधयति इति आयुर्वेदः।

अर्थात जो शास्त्र (विज्ञान) आयु (जीवन) का ज्ञान कराता है उसे आयुर्वेद कहते हैं।

(2) स्वस्थ व्यक्ति एवं आतुर (रोगी) के लिए उत्तम मार्ग बताने वाला विज्ञान को आयुर्वेद कहते हैं।

(3) अर्थात जिस शास्त्र में आयु शाखा (उम्र का विभाजन), आयु विद्या, आयुसूत्र, आयु ज्ञान, आयु लक्षण (प्राण होने के चिन्ह), आयु तंत्र (शारीरिक रचना शारीरिक क्रियाएं) – इन सम्पूर्ण विषयों की जानकारी मिलती है वह आयुर्वेद है।

आयुर्वेद जीवन का प्राचीन वैदिक ज्ञान है। भारत में, भले ही इसे पीढ़ी दर पीढ़ी पूर्णता के साथ सौंपा जाता रहा है, समय के साथ यह अद्भुत ज्ञान बहुत अधिक मात्रा में गुम होता चला गया। अपनी संपूर्णता में इस विज्ञान में सूक्ष्मब्रहमांड और अति सूक्षम-ब्रह्मांड शामिल है। इसमें समस्याओं को बेअसर करने और पूर्ण शारीरिक, साथ ही आध्यात्मिक, स्वास्थ्य को पुन: बहाल करने की सभी संभावनाएं मौजूद हैं। इस अपार ज्ञान को आज तक अपूर्ण रूप में संरक्षित किया गया है।

आयुर्वेद, वेद की एक शाखा है। वेद में 40 विभिन्न पहलू हैं। चरक संहिता और आयुर्वेद की अन्य 5 संहिताओं में हजारों साल के अनुसंधान का संग्रह मौजूद है, जो सभी समयों के लिए मान्य है।

इस शास्त्र के आदि आचार्य अश्विनीकुमार माने जाते हैं जिन्होने दक्ष प्रजापति के धड़ में बकरे का सिर जोड़ा था। अश्विनी कुमारों से इंद्र ने यह विद्या प्राप्त की। इंद्र ने धन्वंतरि को सिखाया। काशी के राजा दिवोदास धन्वंतरि के अवतार कहे गए हैं। उनसे जाकर सुश्रुत ने आयुर्वेद पढ़ा। अत्रि और भारद्वाज भी इस शास्त्र के प्रवर्तक माने जाते हैं। आयुर्वेद के आचार्य हैं – अश्विनीकुमार, धन्वंतरि, दिवोदास (काशिराज), नकुल, सहदेव, अर्कि, च्यवन, जनक, बुध, जावाल, जाजलि, पैल, करथ, अगस्त्य, अत्रि तथा उनके छः शिष्य (अग्निवेश, भेड़, जतुकर्ण, पराशर, सीरपाणि, हारीत), सुश्रुत और चरक।

आयुर्वेद प्रकृति में तत्वों के साथ हमारा घनिष्ठ संबंध है, और कैसे वे हमें हमारे जीवनों के सभी पहलुओं में शारीरिक और आध्यात्मिक संतुलन को प्राप्त करने में सहायता कर सकते हैं। हमारी सेहत और निरोगता के लिए, यह संतुलन कई माध्यमों से प्राप्त किया जा सकता है, जिसमें खान-पान और व्यायाम शामिल है। ___ भारत के ऋषि-मुनि, जो पर्वतों की चोटियों में रहकर तपस्या और योग करते थे, उनका मानना था कि सभी भौंतिक रुप, जिसमें हमारे शरीर भी शामिल हैं, पांच आवश्यक तत्वों – आकाश, वायु, अग्नि, जल और पृथ्वी से मिलकर बने होते हैं, इन पांच तत्वों में संतुलन को बनाये रखना हमारे शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण होता है।

दो सौ सालों के बाद, आयुर्वेद ने बौद्ध धर्म के उदय के साथ उड़ान भरी, जिसे भारत में महान सम्राट अशोक के शासनकाल में स्थापित किया गया था और यह चीन और जापान तक फैला। लेकिन बारहवीं सदी में मुगलों के भारत पर आक्रमण से आयुर्वेद को बड़े पैमाने पर मुगलों की चिकित्सा प्रणाली से बदल दिया गया, उसके बाद सदियों तक अंग्रेजों ने दबाये रखा, उन्हें आयुर्वेदिक चिकित्सकों की शक्तियों से डर था जो खास मर्म को दबाते हुए मिनटों में किसी को ठीक कर सकते थे या (जरुरत पड़ने पर, मार सकते थे)। भारत के स्वतंत्र होने और महात्मा गांधी के नेतृत्व में बीसवीं शताब्दी में, आयुर्वेदिक स्कूलों और चिकित्सा प्रणाणियों का एक बार फिर से उदय हुआ।

उचित भोजन के सेवन से उत्तम स्वास्थ्य

युगों के बीतने के बाद आयुर्वेदिक डॉक्टरों, जिन्हें वैद्य के रूप में जाना जाता है, ने कहा है कि भोजन सबसे महत्वपूर्ण निवारक दवा है। वे व्यक्ति की संपूर्ण स्थिति पर विचार करते हैं। इसे “आहार”, सही आहार के ज्ञान की सहायता से किया जाता है।

इस ज्ञान के अनुसार, सही पोषणशरीर को शुद्ध करता है और मन को मजबूत बनाता है। यह कार्यों और इच्छाओं को प्राकृतिक रुप से पूरा करने में भूमिका निभाता है।

क्योंकि आयुर्वेद सही खाने की आदतों के बारे में ज्ञान को बहाल कर सकता है, यहां तक कि आजीवन खराब खाने की आदतों पर विजय प्राप्त की जा सकती है। यदि आप अपने शरीर के संकेतों पर ध्यान देते हैं और उनका सम्मान करते हैं, तो आपके आहार में संतुलन आता है। займ срочно без отказов и проверок


Posted

in

by

Tags:

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *