अक्षय तृतीया का महत्व और इसे लाकडाउन में मनाने के तरीके

हिन्दू पंचांग के अनुसार प्रत्येक वर्ष वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया के नाम से जाना जाता है। कहीं-कहीं इस पवन तिथि को आखा तीज के नाम से भी जाना जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान श्री विष्णु और माता लक्ष्मी की विधि विधान से पूजा करने पर धन-सम्पदा की अक्षय वृद्धि होती है। साथ ही इस दिन किया जाने वाला कोई भी शुभ कार्य फलदायी होता है। वर्ष 2020 में यह पावन तिथि 26 अप्रैल को है।

अक्षय तृतीया का महत्व

हिन्दू धर्म के इस पावन पर्व का उल्लेख भविष्य पुराण में मिलता है। इसी दिन भगवान परशुराम का प्रादुर्भाव हुआ था। इसी तिथि से सतयुग और त्रेतायुग का आरम्भ हुआ था। प्रसिद्ध चार धामों में से एक श्री  बद्रीनाथ धाम के कपाट श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ इसी दिन खोले जाते हैं। सम्पूर्ण वर्ष में एक बार वृन्दावन में श्री बांकेबिहारी मंदिर में इसी दिन श्री विग्रह के चरणों के दर्शन होते हैं। पतितपावनी गंगा का पृथ्वी पर अवतरण इसी तिथि को हुआ था। महाभारत का लेखन कार्य महर्षि वेदव्यास एवं श्री गणेश के द्वारा इसी दिन आरम्भ हुआ। भगवान श्री विष्णु का प्रसिद्ध नर-नारायण एवं हयग्रीव अवतार इसी दिन हुआ था।

अक्षय तृतीया के दिन कोई नया कार्य आरम्भ करने के लिए कोई मुहूर्त देखने की आवश्यकता नहीं पड़ती। इस दिन कोई भी मांगलिक कार्य जैसे- विवाह, गृह-प्रवेश, घर, भूखंड, वाहन, आभूषण, वस्त्र इत्यादि की खरीदारी के लिए पंचांग देखना जरुरी नहीं है।

पूजा-पाठ, हवन एवं यज्ञ-अनुष्ठानों के लिए भी आज की तिथि को अत्यंत पवित्र कहा गया है। इस दिन लोग अपने पितरों का पिंड दान भी करते हैं। इस दिन गंगा स्नान का भी प्रचलन है। जिस कारण प्रतिवर्ष इस दिन हरिद्धार, प्रयाग आदि स्थानों पर श्रद्धालुओं का भारी जमावड़ा होता है। जहाँ पर ये सभी स्नान-दानादि धार्मिक कार्यों में बढ़-चढ़ कर भाग लेते हैं।

अक्षय तृतीया को लाकडाउन में कैसे मनायें

इस समय पूरा देश कोरोना महामारी के प्रकोप के कारण लॉकडाउन के दूसरे चरण में है। परन्तु इसी बीच अक्षय तृतीया का पर्व भी समीप आ गया है। तो क्या इस लॉकडाउन में अक्षय तृतीया को मनाया जा सकता है? तो आपके प्रश्न का उत्तर है हाँ! तो आइये जानते हैं कुछ ऐसे ही उपायों के बारे में।

इस साल करें सोने की ऑनलाइन खरीदारी

अक्षय तृतीया के दिन सोना खरीदना सबसे सुबह माना जाता है। लेकिन लॉक डाउन के बीच आप बिना घर से बाहर निकले भी सोने  की खरीदारी कर सकते हैं। आजकल कई सारी ऑनलाइन कंपनियां सोने के आभुषणो पर आकर्षक ऑफर्स के साथ उपलब्ध हैं। बशर्ते आप किसी विश्वसनीय प्लेटफॉर्म से ही इनकी खरीदारी करें।

करें स्वर्ण दान के स्थान पर जौ का दान

जौ को स्वर्ण जितना ही फलदायी माना गया है। इसलिए यदि आप मंडी के इस दौर में सोने की खरीद नहीं करना चाहते हैं तो कोई बात नहीं। आप चाहें तो स्वर्ण दान के स्थान पर आप जौ दान भी कर सकते हैं।

करें जलपात्र का दान

गर्मियां आ चुकी हैं। तो क्यों न इस बार किसी जरूरतमंद को ऐसी वस्तु दान करें जो उसके लिए हितकर हो। आप चाहें तो मिटटी का घड़ा, लोटा, गिलास या अन्य कोई पात्र दान कर सकते हैं।

गोसेवा परम् धर्म

यदि कुंडली में आपका सूर्य कमजोर है तो इस रविवार अक्षय तृतीया के दिन गाय को मीठी रोटी खिलाएं। इससे आपको आरोग्य लाभ होगा।और साथ ही सम्पत्ति सुख भी मिलेगा। आप चाहें तो पशु-पक्षियों के लिए पानी का प्रबंध भी कर सकते हैं।

जरूरतमंदों को अन्नदान करें

शास्त्रों में अन्नदान को महादान माना गया है। अपने आस-पास किसी जरूरतमंद को आप अपनी क्षमतानुसार आटा, चावल या कोई दूसरा अन्न दान कर सकते हैं। आप चाहें तो अपने नौकरों के लिए महीने भर के राशन का प्रबंध कर सकते हैं।

(यदि आपको यह पोस्ट पसंद आया तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें। आप अपने सुझाव हमें नीचे कमेंट सेक्शन में लिखकर बता सकते है।) срочный займ


Posted

in

by

Tags:

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *