क्रिकेट के कुछ बेहद चौंका देने वाले किस्से जो आपको हैरान कर देंगे

क्रिकेट ना केवल भारत देश का राष्ट्रीय खेल है बल्कि उसके साथ भारतीय लोगों की उम्मीदें भी जुड़ी हुई है। चाहे वो आईपीएल हो या फिर कोई आम मैच क्यों ना हो बच्चा बच्चा उसकी हर एक चीज के बारे में जानता है। आइए जानते है क्रिकेट खेल के कुछ बेहद चौंका देने वाले किस्से जो ना केवल आपको हैरान कर देंगे बल्कि आपके ज्ञान को भी बढ़ने में सहायता करेंगे –

1. क्रिस गेल टेस्ट मैच की पहली गेंद पर छक्का लगाने वाले एकमात्र बल्लेबाज हैं।

टेस्ट क्रिकेट के 137 वर्षों में किसी भी क्रिकेटर ने टेस्ट मैच की पहली गेंद पर आज तक छक्का नहीं मारा। क्रिस गेल ने 2012 में बांग्लादेश के खिलाफ यह उपलब्धि हासिल की थी।

2. एक ही दिन में एक टेस्ट की सभी चार पारियां।

इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच 2000 के लॉर्ड्स टेस्ट में एक ही दिन खेली जा रही सभी चार पारियों को देखा गया। यह हैरतंगेज कारनामा 11 साल बाद केपटाउन टेस्ट मैच में दोहराया गया था जहां दक्षिण अफ्रीका ने ऑस्ट्रेलिया को 47 रन पर आउट कर दिया था।

3. 11/11/11 दिनांक की सुबह दक्षिण अफ्रीका को 11:11 बजे जीत हासिल के लिए 111 रनों की आवश्यकता थी।

यह संयोग केप टाउन में दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहले टेस्ट के दौरान हुआ था। 11 बज के 11 मिनट , 11/11/11 दिनांक को, दक्षिण अफ्रीका ने 1 विकेट पर 125 रन बनाकर जीत के लिए 111 रनों का योगदान दिया था।

4. सचिन तेंदुलकर भारत से पहले पाकिस्तान के लिए खेले थे, क्या आप ये बात जानते है?

क्या आप भारत से पहले पाकिस्तान के लिए सचिन तेंदुलकर के खेलने की कल्पना कर सकते हैं?। यह 1987 में ब्रेबॉर्न स्टेडियम में भारत और पाकिस्तान के बीच एक अभ्यास मैच के दौरान हुआ था जहां सचिन तेंदुलकर पाकिस्तान के लिए एक विकल्प क्षेत्ररक्षक के रूप में मैदान पर आए थे।

5. सुनील गावस्कर अपने पूरे करियर में तीन बार टेस्ट मैच की पहली गेंद पर आउट हो चुके है वो भी तीन अलग अलग मैच में।

सुनील गावस्कर 10,000 टेस्ट रन तक पहुंचने वाले पहले बल्लेबाज थे और उन्होंने अपने करियर का अंत 34 टेस्ट शतक लगाकर किया था। लेकिन क्या आप यह बात जानते हैं कि वह एक टेस्ट मैच की पहली गेंद पर तीन बार आउट हुए थे वो भी तीन अलग अलग मैच के दौरान। जिन्होंने उन्हें आउट किया था उन का नाम थे: ज्योफ अर्नोल्ड (एजबेस्टन, 1974), मैल्कम मार्शल (कोलकाता, 1984) और इमरान खान (जयपुर, 1987)।

6. भारत ने 1983 विश्व कप जीता था और 1986 में लॉर्ड्स में तीन साल बाद अपना पहला टेस्ट मैच भी जीता था।

भारत ने फिर से 28 साल बाद 2011 में अपना दूसरा विश्व कप जीता और उल्लेखनीय रूप से 2014 में लॉर्ड्स के तीन साल बाद अपना दूसरा टेस्ट जीता। यहां आप देख सकते है कि केसे इन दोनों में मात्र तीन तीन साल का अंतर है।

7. 2001 में कोलकाता में वीवीएस लक्ष्मण की 281 बनाम ऑस्ट्रेलिया को व्यापक रूप से टेस्ट मैचों में खेली गई सबसे बड़ी पारी के रूप में माना जाता है।

यह निश्चित रूप से एक भारतीय बल्लेबाज द्वारा खेली गई सर्वश्रेष्ठ पारी है। कई प्रशंसकों को यह बात नहीं नहीं पता होगी की वीवीएस को इस मैच में नहीं खेलना चाहिए था “मैं उस टेस्ट मैच को खेलने के लिए पर्याप्त नहीं था,” लक्ष्मण ने बाद में खुलासा किया। उनकी पीठ से जुड़ा कुछ गंभीर मुद्दे था जिसके वजह से वह मैच खेलने में असमर्थ थे लेकिन उसके बावजूद भी उन्होंने इस मैच को खेल कर इतहास में अपना नाम स्वर्ण अक्षरों में लिखवा दिया था। unshaven girls


Posted

in

by

Tags:

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *