ये शहरी किसान लगा सकते हैं आपकी छत पर टनभर सब्जियां

आज हम देखते है, व कई बार खबरों में पढते है की किस प्रकार फल , सब्ज़ियों में ज़रुरत से अधिक मात्रा में कीटनाशक, फ़र्टिलाइज़र , केमिकल्स आदि मिले होते है। सब्जी मंडियों से लाई गई लगभग 30 फीसदी सब्जियों पर कुछ अवशिष्ट कीटनाशक होते हैं, जो कि कैंसरकारी भी हो सकते हैं।

सब्जियों, फलों, और पत्तेदार साग जैसी वस्तुएं आपूर्ति श्रृंखला में लंबे समय तक रहने के बाद शहरों तक पहुंचती हैं। आज के इस समय में जहाँ जैविक खेती और उनके उत्पादों की मांग बढ़ रही है जबकि खेती हेतु ज़मीन कम होती जा रही है, वहां घर पर ही अपने लिए सब्ज़िया उगाना शयद काफी सही विकल्प रहेगा।

आप अपने खुद के एक छोटे खेत होने की कल्पना करें जो आपको हानिकारक कीटनाशकों, केमिकल से रहित जैविक सब्जियां प्रदान करता है। आज इस शहरी खेती में लोगो की दिलचस्पी काफी बढ़ रही है, और आप भी इसका हिस्सा ज़रूर बनना चाहेंगे। अपनी सब्जियों और फलों को अपने सब्ज़ीवाले या किसी सब्जी बूथों से खरीदना निश्चित रूप से एक विकल्प है, लेकिन यह उतना संतोषजनक नहीं है जितना कि आपका स्वयं उगा कर मेहसूस कर सकते है।

शहरी भारतीयों ने खेती और कृषि से जैसे अपने नाते ही तोड़ लिए है। इसके कारण, हमने अपने भोजन की गुणवत्ता, पर्यावरणीय प्रभाव और पोषण महत्व के बारे में परवाह करना भी बंद कर दिया है। अपनी खुद की उपज बढ़ाने से, हम किसानों के लिए सहानुभूति का निर्माण करते हुए शहरवासियों को उनकी प्रकृति और पोषण के साथ फिर से जोड़ने की उम्मीद कर सकते हैं।

भारत शुरू से ही एक कृषि प्रधान देश रहा है। हालांकि शहरीकरण में सुधार के साथ, हमें लगता है कि कृषि ऐसे लोगों का काम है जो शिक्षित नहीं हैं, पर क्या सच में ऐसा है? आज इस लेख में हम चर्चा करेंगे एक ऐसे स्टार्ट उप के बारे में जिन्होंने कृषि क्षेत्र में क्रान्ति लायी है, उन्होंने सिर्फ अपने घर की छत पर ही एक प्रकार से खेत का नर्माण कर दिया है, इस स्टार्ट उप का नाम है ‘खेतीफाई’ (Khetify)। यह शहरवासियों के लिए काल्पनिक हो सकता है, जिनके पास अपनी सब्जियां उगाने के लिए जमीन नहीं है और समय की भी कमी हैं, लेकिन यह स्टार्टअप खेती की परिभाषा को बदलने में व्यस्त है।

आई.आई.टी. खड़गपुर में पढ़े साहिल पारेख और कौस्तुभ खरे दोनों दोस्तों ने यह कभी नहीं सोचा था कि वे एक स्टार्टअप करेंगे। पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद दोनों दिल्ली पहुंचे, वहां साहिल ने TERI में एक स्थिरता शोधकर्ता के रूप में काम किया, जबकि कौस्तुभ यंग इंडिया फैलोशिप में शामिल हो गए, जिसके बाद उन्हें शिकागो विश्वविद्यालय द्वारा एक शहरी डिजाइनर के रूप में काम करने के लिए IIC साथी के रूप में चुना गया। अपनी फेलोशिप के दौरान, उन्होंने भारत सरकार की दिल्ली मुंबई औद्योगिक गलियारे परियोजना के तहत ग्रीनफ़ील्ड स्मार्ट शहरों के डिज़ाइन पर काम किया।

कौस्तुभ बतलाते है कि –

” मुझे औद्योगिक गलियारे की परियोजना के लिए काम करने के दौरान दिल्ली, चंडीगढ़, धर्मशाला, आदि में इन लैंडफिल साइटों का दौरा करने का मौका मिला था। इन लैंडफिल में उगाई जा रही बैंगन, टमाटर और धनिया जैसी सब्जियों को देखकर मैं चौंक गया, जो भारी धातुओं और सभी औद्योगिक विषाक्त कचरे से भरे हुए थे। यह सब, निश्चित रूप से, इस मिट्टी में चला जाता है और हम वहां उगाई गई सब्जियों को खा रहे हैं। मैंने वापस आकर साहिल से कहा कि हम जो कुछ भी खा रहे हैं वह विषाक्त है और हम मंडी से कम से कम बैंगन, टमाटर और धनिया खरीदने नहीं जा रहे हैं आज से, और इस प्रकार हमे विचार आया की क्यूँ न यह सब्ज़ियां घर पर ही उगाई जाए और हमने अपने किराए के अपार्टमेंट की 15 × 20 फुट की छत पर इन सब्जियों को उगाने के लिए प्रयोग करना शुरू कर दिया।”

कौस्तुभ और साहिल ने लगभग 1.5 वर्षों तक मिट्टी, खाद और कीटनाशकों पर नाना प्रकार के प्रयोग किया। अंत में जून 2016 में, दोनों ने अपनी छत से लगभग 36 किलोग्राम बैंगन, टमाटर और धनिया की फसल उगा ली थी । इससे उन्हें विश्वास हो गया कि, वह सही दिशा में आगे बढ़ रहे है और सही प्रक्रिया के साथ काम करने पर , सब्जियों को किसी भी स्थिति में उगाया जा सकता है। खेतीफाई खाली छतों पर खाद आधारित मॉड्यूलर खेतों को विकसित करता है और प्रत्येक घर में 200 वर्ग फुट के रूप में छोटी जगह में हर साल 700 किलोग्राम जैविक सब्जियां उगाने में सक्षम बनाता है।

स्टार्टअप के आदर्श वाक्य ‘देश का कल्चर, एग्रीकल्चर’ के बारे में बताते हुए, कौस्तुभ कहते हैं कि हमारा मानना ​​है कि शहरी भारत को खेतों, किसानों और उनकी कृषि जड़ों से काट दिया गया है। जब तक शहर अपने भोजन व्यवस्था पर नियंत्रण नहीं करते, तब तक खाद्य व्यवस्था में सही स्थिरता हासिल नहीं की जा सकती है।

‘छत पर खेती’ की इस तकनीक को हाइड्रोपानिक्स कहा जाता है। इस तकनीक की खास बात यह है कि इसमें मिट्टी का इस्तेमाल बिल्कुल ना के बराबर होता है। इसमें पौधों के लिए जरूरी पोषक तत्वों को पानी के सहारे सीधे पौधों की जड़ों तक पहुंचाया जाता है।

टीम के मानकीकृत मिट्टी के मिश्रण का उपयोग उसके खेत के बक्सों में किया जाता है जो रखरखाव की आवश्यकताओं को न्यूनतम रहता है व बीज और पौधे स्वाभाविक रूप से खेतीफाई नर्सरी में उगाए जाते हैं और ड्रिप सिंचाई तकनीक से पानी की खपत भी कम होती है।

उनकी दृष्टि, शहरी नागरिकों को इस विचार से जोड़ने की व रेखांकित करने की कोशिश है जो अपने घरों में अपने स्वयं के भोजन को विकसित कर सकते हैं। उनके स्मार्ट शहरी खेती समाधानों का उपयोग करके, शहर में लोग अपने जैविक फलों और सब्जियों को अपनी छतो और सामुदायिक पार्कों में विकसित करने में सक्षम होंगे। नागरिकों को अपनी खुद की सब्जियां उगाने में पोषण मूल्य का एहसास होगा।

वह अपने स्टार्ट उप के सन्दर्भ में कुछ मुख्य बाते बताते है जो कुछ इस प्रकार है :

  • मॉड्यूलर: एक आकार सभी के लिए फिट नहीं होता है, इसलिए खेतीफाई शहरी खेतों को एक मेड़, बरामदा, छज्जा, छत या आँगन में फिट करने और उन्हें उसके अनुकूल बनाने के लिए मॉड्यूलर खेत के बक्से में लाते हैं, ताकि जहाँ भी आप खेती करना चाहते हैं, उन्हें वहां स्थापित किया जा सके।
  • जल-कुशल: एक पारंपरिक ड्रिप सिंचाई प्रणाली पारंपरिक प्रणालियों की तुलना में कम से कम 300 लीटर पानी मासिक बचाने में मदद करती है। पानी के बहुत अधिक, या बहुत कम होने का कोई खतरा नहीं है।
  • टेक-चालित: टीम एक स्वचालित पानी प्रणाली विकसित कर रही है जो की कुछ ही महीनों में तैयार हो जयेगी। इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IOT) अवधारणा का उपयोग करके, केवल एक एसएमएस भेजकर खेत के बक्से में पानी डाला जा सकता है। अगर आप दूर है तब भी आपको पेड़ो में पानी डालने को लेकर चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।
  • कम्पोस्ट-आधारित: खेत एक अनूठे बढ़ते माध्यम के साथ आते हैं, जिससे खाद को जोड़ा जा सकता है, जो जैविक घरेलू कचरे को रिसाइकिल करने का एक शानदार तरीका है।
  • रख-रखाव: खेतीफाई मासिक रखरखाव के लिए उन किसानो को काम पर रखता है , जो काम की तलाश में दूसरे शहर चले जाते हैं। ये अनुभवी किसान फ़ार्म स्तर की जाँच से लेकर फ़सल की सेहत के प्रबंधन तक खेतों को व्यवस्थित रखते हैं।

खेतीफाई स्कूलों और समाजों में कृषि कार्यशाला भी रखती है। टीम का उद्देश्य बच्चों को उनके द्वारा खाए जाने वाले भोजन, पौधों और बीजों की पहचान कराना और पोषण के बारे में जागरूकता फैलाना है।

टीम खेतीफाई कहती है कि

“बच्चे बाहर के प्रत्येक चीज़ के बारे में जानते हैं, लेकिन उनके पास उन चीज़ों के बारे में कोई ज्ञान नहीं है जो भोजन वह अपने शरीर के अंदर डालने जा रहे हैं। हमें लगता है कि प्रत्येक को स्वस्थ समाज के लिए बुनियादी ज्ञान होना चाहिए।”

अपने परिचालन के नौ महीनों के भीतर ही, खेतीफाई ने दिल्ली-एनसीआर में 7,000 वर्ग फुट खाली छतों और बालकनियों को छोटे शहरी खेतों में बदल दिया है, जिन्होंने 55 विभिन्न किस्मों के 2,200 किलोग्राम से अधिक सब्जियों का उत्पादन किया है।

वह बताते है कि ‘आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले बॉक्स के प्रकार के आधार पर, आपका व्यक्तिगत खेत आपके आदेश को रखने के 1-4 सप्ताह तक कहीं भी स्थापित किया जा सकता है। आपको बस उनकी साइट पर जाना है और साइट विजिट शेड्यूल करना है। वर्तमान में केवल दिल्ली एनसीआर में खेती चल रही है, लेकिन जल्द ही इसे अन्य शहरों में संचालित करने की उम्मीद है।’

खेतीफाई खेती को समकालीन बनाने के लिए 21 वीं सदी की तकनीक के साथ कृषि के पारंपरिक ज्ञान को लुभाने की कोशिश कर रहे हैं। वह हम शहरवासियों को शहरी किसानों में परिवर्तित करके हमारी कृषि विरासत के साथ फिर से जोड़ने की उम्मीद करते हैं। займы на карту без отказа


Posted

in

by

Tags:

Comments

One response to “ये शहरी किसान लगा सकते हैं आपकी छत पर टनभर सब्जियां”

  1. Kamal vaghela ghadhidham kutch Avatar
    Kamal vaghela ghadhidham kutch

    Muje apni chat pe ye ughana he
    Please co. Me. 9722221288

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *